फर्टिलिटी ट्रीटमेंट: क्या आईवीएफ फेल होने के बाद भी माँ बनना संभव है?

फर्टिलिटी ट्रीटमेंट: क्या आईवीएफ फेल होने के बाद भी माँ बनना संभव है?

    Enquiry Form






    आईवीएफ फेल होने के बाद भी धारण कर सकते हैं गर्भ

    एक महिला के लिए अपनी खुद की संतान को जनम देना या फिर ऐसा कहें की अपने बच्चे को अपनी खोख में 9 महीने रखना, एक ऐसा समय है जिसको शब्दों में बयान कर पाना बहुत ही मुश्किल है | एक दम्पति के लिए इस ख़ुशी को महसूस करना बहुत ही अलग तरह का समय होता है | परन्तु कुछ कपल्स के लिए यह उस तरह नहीं गुज़रता जिस तरीके से यह जाना चाहिए | कई बार खुद से कोशिश करने के बाद भी वह सिर्फ और सिर्फ नाकाम होते है |

    यहाँ पर हम सिर्फ उन कपल्स की ही बात नहीं कर रहे जो की सिर्फ खुद से पैरेंट्स नहीं बन पा रहें है बल्की उनकी भी बात कर रहें है जो की कई बार IVF Centre in Punjab में आईवीएफ (IVF) साइकिल करवाने के बावजूद भी नाकाम हुए हैं | यदि ऐसा आपके साथ भी हो रहा है तो आप हमारे fertility clinic in Moga में आकर फर्टिलिटी डॉक्टर से सम्पर्क करें और यह समझ लें की आपकी स्थिति में सुधर कैसे आ सकता है और आप गर्भ धारण कैसे कर सकते हैं |

    ऐसे कोनसे कारक है जो गर्भधारण करने में अहम है ?

    एक महिला के गर्भधारण करने में बहुत से अलग कारक देखे जाते हैं, जैसे की:

    • महिला का स्वास्थ्य
    • दंपती की फर्टिलिटी
    • गर्भावस्था में संभावित समस्याएं
    • जोड़े की उम्र

    और बहुत सी अलग बातों का ध्यान रखा जाता है |

    उम्र बढ़ना और माँ बनने की सम्भावना

    हमारे फर्टिलिटी एक्सपर्ट ने इस बात पर ध्यान दिया है की बढ़ती उम्र की वजह से महिलाओं और पुरूषों की प्रजनन क्षमता पर प्रभाव पड़ता है | यह समझना ज़रूरी है की जैसे महिला की उम्र 40 या उससे पर होती है तो महिला के अंडो की गिणती और गुणवत्ता पर प्रभाव पड़ता है | इसके साथ ही पुरुष के शुक्राणु की गुणवत्ता पर भी असर पड़ता है |

    असिस्टेड रिप्रोडक्टिव टेक्नोलॉजी के साथ माँबाप बनने के चान्सेस बढ़ जाते हैं

    अगर ऐसा है की बढ़ती उम्र की वजह से आपको दिक्कत हो रही है तो इनविट्रो फर्टिलाइज़ेशन (आईवीएफ) की मदद से आपकी स्थिति में सुधार हो सकता है | इस रास्ते को चुनने के बाद आपकी प्रेगनेंसी के चान्सेस बढ़ जाते हैं या ऐसा कहें की यह रास्ता आसान हो जाता है | पर इसके सफल होने के लिए यह ज़रूरी है की आपकी सेहत सही हो | क्यूंकि ऐसा देखा गया है की 28% IVF केसेस फेल हो जाते है क्यूंकि एंडोमेट्रियम ग्रहणशील नहीं होता है | क्या आप सोच रहे है इसका मतलब क्या है ?

    एंडोमेट्रियम

    एंडोमेट्रियम आपके गर्भशय में एक परत की तरह होती है जो की भ्रूण को स्वीकार करने में त्यार करती है | यही जगह है जहाँ पर भ्रूण को प्रत्यारोपित (implant) किया जाता है | इसी के बाद ही एक सफल प्रेगनेंसी के होने के चान्सेस बढ़ जाते हैं |

    इसी के चलते डॉक्टर पहले यह देखते हैं की आपके स्थिति सही है या नहीं, यदि कुछ दिक्कत है तो उसके लिए क्या सही होगा | हाँ यह भी सच है की IVF की मदद से बहुत सारे दम्पतियों को फायदा हुआ है जिनकी स्थिति में किसी भी और ट्रीटमेंट से लाभ नहीं हुआ है | अधिक जानकारी के लिए आप हमारे फर्टिलिटी डॉक्टर से परामर्श करें और यह जान लें की आपके लिए सबसे बेहतर क्या होगा |

    About The Author

    admin

    No Comments

    Leave a Reply