टेस्ट ट्यूब बेबी की परिक्रिया के बारे में विस्तार से जाने

टेस्ट ट्यूब बेबी की परिक्रिया के बारे में विस्तार से जाने

    Enquiry Form






    टेस्ट ट्यूब बेबी की परिक्रिया कैसे की जाती है ? यह सवाल सबसे अधिक पूछा जाता है जब दम्पति हमारे IVF Centre: Gomti Thapar Hospital, Punjab में आकर अपनी लिए इनफर्टिलिटी ट्रीटमेंट करवाना चाहते है | टेस्ट ट्यूब ट्रीटमेंट उन दम्पति के लिए है जो की खुद से माँ बाप बनने में सफल नहीं हो पा रहें हैं | इसे के चलते उनको ट्रीटमेंट की मदद से सफलता प्रापत हो सकती है | क्या अपनी कभी सोचा था की ट्रीटमेंट की मदद से बच्चा पैदा किया जा सकता है | यह ही नहीं बल्कि Test Tube baby Cost की लागत भारत में बाकि देशों के मुकाबले बहुत ही कम है | अगर औसत लागत की बात की जाए तो Rs 50,000 से इस ट्रीटमेंट का खर्च हो सकता है | इसके इलावा इस ट्रीटमेंट को करने के कुछ बहुत ही ज़्यादा अहम् स्टेप्स है जो की हमारे IVF Doctor बहुत ही सही से जानते हैं |

    टेस्ट ट्यूब बेबी की विधि

    मासिक चक्र को रोकने की विधि करना

    टेस्ट ट्यूब बेबी की सबसे पहला पड़ाव है मासिक धर्म को रोकना (menstrual cycle को रोकना) | इसको रोकने के लिए आपको लगभग 14 दिन तक दवा दी जाती है | यह दवाएं इंजेक्शन के रूप में ही दी जाती हैं |

    अधिक अंडे उत्पन्न करना

    इसके बाद अंडो को बढ़ाने के लिए कुछ चीज़ें की जाती हैं | इस स्टेप को आप सुपर ओवुलेशन भी कह सकते हैं | इसको करने के लिए भी महिला को अलगअलग दवाएं दी जाती हैं | जिसको लेने के बाद शरीर में अंडो की गिणती बहुत ही तेज़ी से बढ़ने लग जाती है | डॉक्टर अल्ट्रासाउंड के द्वारा यह देखंगे की सब कुछ सही से हो रहा है या

    नहीं |

    अंडाशय से अंडे को निकालना

    जब अंडो की गिणती प्रपात मात्रा में हो जाती है तो उनको ट्रीटमेंट के द्वारा निकल लिया जाता है | ऐसा मानना है की 15 अंडो का निकलना ज़रूरी है जिससे की माँ बनने की सम्भावना बहुत ही तेज़ी से बढ़ती है |

    अंडे और शुक्राणु को फर्टिलाइज कराना

    इसके बाद अंडे एंड शुक्राणु को एक साथ एक कंट्रोल्ड एनवायरनमेंट में फर्टीलिज़े किया जाता है जिसके की एम्ब्र्यो बन सके | यदि मेल इनफर्टिलिटी की समस्या है तो डॉक्टर आपको इंट्रासाइटोप्लाज्मिक (intra cytoplasmic) करवाने की सलाह देंगे | जो भी आपकी स्थिति के अनुसार सही होगा डॉक्टर आपको वह ट्रीटमेंट करवाने को कहेंगे |

    एंब्रियो को ट्रांसफर करना

    टेस्ट ट्यूब बेबी की विधि में सबसे अहम् पड़ाव में एम्ब्र्यो ट्रांसफर जिसमे एम्ब्र्यो को महिला के गर्भ में वापिस डाला जाता है |

    टेस्ट ट्यूब बेबी की प्रक्रिया की सफलता दर कितनी है ?

    टेस्ट ट्यूब बेबी विधि से बच्चा पैदा करने में यह विधि बहुत कामयाब रही है। 38 से 40 साल की महिलाओं में इस विधि से बच्चा पैदा करने की संभावना घटती जाती है।

    रिसर्च के अनुसार यह महिला के स्वास्थ्य पर भी निर्भर करता है कि टेस्ट ट्यूब बेबी से बच्चा पैदा करने में उसका शरीर सक्षम है या नहीं।

    यदि आप जानना इस ट्रीटमेंट के बारे में और कुछ जानना चाहते है तो आप हमारे डॉक्टर से बिना किसी परिशानी के परामर्श कर सकते हैं |

    About The Author

    admin

    No Comments

    Leave a Reply